भारत में शिक्षा का विकास कब हुआ?


Table of Contents

भारत में शिक्षा का विकास कब हुआ? | भारत देश में शिक्षा का विकास और व्याप्ति

Job Laksh
भारत देश के प्रथम शिक्षा मंत्री मौलाना अब्दुल कलम आजाद थे , और भारत देश में प्रथम राष्ट्रिय शिक्षा नीति की घोषणा 1968 में की गई थी । भारतीय शिक्षा का मैग्नाकार्टा चार्ल्स वुड डिस्पैच को कहा जाता है जिसे 1854 ईसवी में भारत सरकार के समीक्ष प्रस्तुत किया गया । और भारत देश में अंग्रेजी शिक्षा का सूत्रपात लार्ड मैकाले ने किया था । शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी बनाने हेतु मैकाले का विवरण पात्र 1835 ईसवी में जारी किया गया । और शिक्षा में सुधर के लिए अंग्रेजी सरकार ने हंटर आयोग का गठन 1882 ईसवी में किया था तथा सैडरर आयोग का गठन 1917 ईसवी में किया । मुक्त विश्वविद्यालय सर्वप्रथम इंग्लैण्ड में खोला गया । तथा भारत देश का प्रथम मुक्त विश्वविद्यालय डॉक्टर बी आर आम्बेडकर मुक्त विश्वविद्यालय की स्थापना 26 अगस्त 1982 ईसवी में की गई थी । और इंदिरा गाँधी मुक्त विश्वविद्यालय इग्नू जो की नई दिल्ली में 1985 में स्थापित किया गया । विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की स्थापना 1956 में हुई थी । और राष्ट्रिय शैक्षिक अनुसन्धान और प्रशिक्षण परिषद् (NCERT) की स्थापना 1961 को हुई थी । राष्ट्रिय साक्षरता मिशन की शुरुवात 1988 ईसवी में हुई थी । और भारतीय शिक्षा को 10 + 2 + 3 का सुझाव कोठरी आयोग के द्वारा दिया गया था । ऑपरेशन ब्लैक बोर्ड नामक कार्यक्रम को 1987 से 88 में के बिच में लागु किया गया था । तथा केंद्रीय अंग्रेजी और विदेशी भाषा संसथान व इंडियन स्कुल ऑफ़ बिजनेस हैदराबाद में है । विश्व- भारती विश्वविद्यालय की स्थापना रविंद्रनाथ टैगोर ने 1921 में की थी । और भारतीय विश्वविद्यालय आयोग का गठन 1902 ईसवी में किया गया । और आजादी के बाद शिक्षा में सुधर के लिए सरकार ने राधाकृष्णन आयोग का गठन 1948- 49 में किया था । भारत देश में सर्वप्रथम IIT खड़गपुर की स्थापना 1951 ईसवी में हुई थी । और भारत देश के प्रथम इंजिनीअरिंग कॉलेज रुड़की की स्थापना 1847 में हुई थी । तथा फोर्ट विलियम कॉलेज की स्थापना 1800 ईसवी में लॉर्ड वेलेजली ने कोलकाता में की थी । जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय की स्थापना 1920 में मोहम्मद अली जौहर ने की थी । और शिक्षा का मौलिक अधिकार अधिनियम 1 अप्रैल 2010 को लागु हुआ। और राष्ट्रिय शिक्षा दिवस 11 नवम्बर को मनता है । तो हमने इस पाठ में सम्पूर्ण भारत देश में शिक्षा में हुए बड़े बदलाव और महत्वपूर्ण जानकारी का अध्ययन किया है , और शैक्षणिक जीवन के समीप भारत देश की शिक्षा निति को हमने इसमें समजा है।

नोबेल पुरस्कार के महत्वपूर्ण तथ्य 

Job Laksh

नोबेल पुरस्कार स्वीडन के रसायनविद अल्फ्रेड बर्नार्ड नोबेल के नाम से 1833 -96 साल से इनके पुण्यतिथि पर उनकी स्मृति में दिया जाता है । अल्फ्रेड ने 1867 में डाइनामाइट को खोजा था । और नोबेल पुरस्कार की शुरुवात 1901 से हुई और इसका वितरण प्रतिवर्ष 10 दिसंबर को स्टॉकहोम जो की है स्वीडन में तथा ओस्लो जो की है नार्वे में होता है। तथा नोबेल पुरस्कार छह क्षेत्रो में दिया जाता है भौतिकी , रसायन , शरीर विज्ञानं अथवा चिकित्सा , साहित्य , शांति एवं अर्थशास्त्र में इस पुरस्कार को दिया जाता है । अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार स्वीडिश बैंक स्वेरिजेश रिक्श बैंक द्वारा अपनी 300 वी वर्षगाठ के उपलक्ष में वर्ष 1967 में आरंभ किया गया और 1969 में पहली बार रांगर फ्रिश जो की है नार्वे की और जैन तीन बर्जेन जो की है हॉलैंड को प्रदान किया गया है । अमर्त्य सेन को वर्ष 1998 में अर्थशास्त्र जो की कल्याण के लिए नोबेल पुरस्कार मिला था । और द रॉयल स्वीडिश अकादमी ऑफ़ साइंस भौतिकी और रसायन विज्ञानं के लिए नोबेल पुरस्कार प्रदान करती है । स्वीडिश अकादमी ऑफ़ लिटरेचर जो की साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार प्रदान करती है । और बैंक ऑफ़ स्वीडन जो की अर्थशास्त्र के लिए तथा नार्वे की संसद जो की है स्टॉर्टिंग इसे शांति के लिए नोबेल पुरस्कार प्रदान करती है । कारोलिंस्का चीरोजिकल इंस्टीटयूड जो की स्थित है स्वीडन में शरीर विज्ञानं अथवा चिकित्सा के लिए नोबेल पुरस्कार प्रदान करती है । और भारत देश को पहला नोबेल साहित्य के क्षेत्र में 1913 में रविंद्रनाथ टैगोर जो की पहले एशियाई को गीतांजली के लिए दिया गया था । नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाली पहली भारतीय महिला का नाम है मदर टेरेसा जिन्हे की 1979 के साल में शांति का नोबेल पुरस्कार मिला था । नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले प्रथम और एकमात्र मुस्लिम थे प्रोफ़ेसर अब्दुल कलाम , और विज्ञानं में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले प्रथम भारतीय सी वी रमन को 1930 में यह पुरस्कार दिया गया था । नोबेल पुरस्कार 2019 के तहत 9.0 मिलियन स्वीडिश क्रोनर जो की 7.11 करोड़ इतनी दी गई थी । द्वितीय विश्वयुद्ध के समय 1940 से 1942 तक नोबेल पुरस्कार नहीं दिया गया । और नोबेल नोबेल पाने वाली पहली महिला मैडम क्यूरी जिन्हे 1903 में रेडियोसक्रियता की खोज हेतु पुरस्कार प्रदान कराया गया था । तथा नोबेल पुरस्कार के किसी एक क्षेत्र में तीन से अधिक व्यक्ति संयुक्त विजेता नहीं हो सकते , और अब तक केवल दो बार 2 व्यक्तियों को मरणोत्तर यह पुरस्कार दिया गया । 1974 में नियम बना की मरणोत्तर किसी को भी नोबेल पुरस्कार नहीं दिया जायेगा । और सबसे काम उम्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाली पाकिस्तान की मलाला यूसुफजई जिन्हे की 17 साल की उम्र में यह पुरस्कार 2014 का शांति का नोबेल दिया गया था ।

Share